Faith and Atonement: The Story of Rajja Sadhvi and Leprosy

Faith and Atonement The Story of Rajja Sadhvi and Leprosy

आस्था और प्रायश्चित: रज्जा साध्वी और कुष्ठ रोग की कहानी

रज्जा साध्वी कुष्ठ रोग से पीड़ित थी। एक साधवजी ने उनसे पूछा, “आपको यह रोग कैसे हुआ?” उसने जवाब दिया, “उबला हुआ पानी पीने से होने वाली गर्मी के कारण मुझे संक्रमण हो गया है।” उसने यह तथ्य छुपाया कि उसकी बीमारी उसके पिछले पापों के कारण थी। अपने गुरु की ऐसी व्याख्या सुनकर अन्य साध्वियाँ भी उनका अनुसरण करने लगीं और कच्चा जल पीने लगीं।

उनकी एक शिष्या – एक युवा साध्वीजी – ने अपना मन दृढ़ रखा और उनका अनुसरण नहीं किया। उनका दृढ़ विश्वास था कि भगवान अरिहंत द्वारा दिखाए गए मार्ग से कोई बीमारी नहीं हो सकती। बीमारियाँ दिमाग का संतुलन बिगाड़ देती हैं। यदि कोई रोग आ जाता है या बढ़ जाता है तो वह भक्ति में बाधा उत्पन्न करता है, तो भगवान ऐसा मार्ग कैसे बता सकते हैं?

उसके रक्त की प्रत्येक बूँद में ईश्वर के उपदेश पर विश्वास था। उन्होंने अन्य साधवियों को विभिन्न तरीकों से समझाने की कोशिश की, लेकिन कुष्ठ रोग के डर से वे नहीं मानीं।
युवा साध्वीजी ने पश्चाताप करते हुए कहा, “हे भगवान! यह मेरे पापों का फल है जिसके कारण ये साध्वियाँ मुझ पर विश्वास नहीं कर रही हैं, जबकि मैं सच कह रहा हूँ।” इस प्रकार, पश्चाताप, आत्म-आलोचना और कई अन्य पूजाएँ करने से, उन्हें केवलज्ञान यानी सर्वज्ञता प्राप्त हुई।

बाद में देवताओं ने इस केवलज्ञानी की प्रशंसा की। उस समय अन्य साध्वियों को लगा कि उनसे बहुत बड़ी गलती हो गयी है। उन्होंने केवलज्ञानी के सामने पाप स्वीकार किया और प्रायश्चित लेकर शुद्ध हो गये। रज्जा साधवी ने कबूल नहीं किया; इसलिए, उसे कई जन्म लेने पड़े। इस प्रकार, हर किसी को कबूल करना चाहिए और प्रायश्चित करना चाहिए।

Faith and Atonement: The Story of Rajja Sadhvi and Leprosy

Rajja Sadhvi was affected by leprosy. One of the sadhvijis asked her, “How did this disease infect you?” She replied, “I am infected due to the heat caused by drinking boiled water.” She hid the fact that her illness was due to her past sins. Hearing this explanation from their guru, other sadhvijis also followed her and started drinking unboiled water.

One of her disciples, a young sadhviji, kept her mind firm and did not follow her. She firmly believed that the path shown by Lord Arihant could not lead to any diseases. Diseases disturb the balance of the mind. If any disease arrives or increases, it hinders devotion, so how can the Lord show such a path?

In every drop of her blood, she had faith in God’s teachings. She tried to convince other sadhvijis in different ways, but due to the fear of leprosy, they weren’t convinced.

The young sadhviji lamented, “O Lord! It is the result of my sins that these sadhvijis are not believing me, even though I am telling the truth.” Thus, by repenting, self-criticizing, and performing several other worships, she attained Kevalgyan, i.e., omniscience.

Later, deities came to admire this Kevalgyani. At that time, other sadhvijis realized they had made a great mistake. They confessed in the presence of Kevalgyani and became pure by taking atonement. Rajja Sadhvi did not confess; therefore, she had to take several births. Thus, everyone should confess and undertake atonement.

You can explore the fascinating stories of all Jain 24 TirthankarasJain Stories Exploring Jain Symbols on the Jain Sattva website. Delve into their lives and teachings to gain insights into Jain philosophy and spirituality.

Author: Admin
Jain Sattva writes about Jain culture. Explore teachings, rituals, and philosophy for a deeper understanding of this ancient faith.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *