Introduction to Chandra Prabhu: the Eighth Tirthankara of Jainism

Chandra Prabhu the Eighth Tirthankara of Jainism

श्री 1008 चन्द्रप्रभु भगवान का परिचय

अगले भगवानपुष्पदन्तनाथ भगवान
पिछले भगवानसुपार्श्वनाथ भगवान
चिन्हवर्धमान चाँद
पितामहासेन
मातालक्ष्मण
जन्म स्थानचंद्रपुरी
निर्वाण स्थानसम्मेद शिखर जी
रंगसफ़ेद
पूर्व पर्याय का नामराजा श्री श्रीषेण
वंशइक्ष्वाकु वंश
जन्म नक्षत्रअनुराधा नक्षत्र 
अवगाहनाएक सौ पचास धनुष
आयुदस लाख वर्ष पूर्व की
वृक्षनाग वृक्ष के नीचे
प्रथम आहारनलिनपुर नगर में राजा सोमदत्ता द्वारा दूध की खीर
क्षेत्रपालश्री सोमकांति, श्री रविकांति, श्री शुभ्रकांति, श्री हेमकांति
श्री 1008 चन्द्रप्रभु भगवान का परिचय

श्री 1008 चन्द्रप्रभु भगवान की पंचकल्याणक तिथियां

गर्भचैत्र कृष्णा पंचमी
जन्मपौष कृष्णा ग्यारस को
दीक्षापौष कृष्णा गयारस को
केवलज्ञानफाल्गुन कृष्णा सप्तमी को
मोक्षफाल्गुन शुक्ला सप्तमी
वैराग्यअध्रुवादि भावनाओं के चिंतवन करने से
दीक्षा पालकीविमला नाम की पालकी
श्री 1008 चन्द्रप्रभु भगवान की पंचकल्याणक तिथियां

श्री 1008 चन्द्रप्रभु भगवान का समवशरण

शासन यक्षविजय देव
शासन देवीविजय मनोवेगा (अपर नाम ज्वालामालिनी)
गणधरतिरानवे गणधर
प्रमुख गणधरश्री वैदर्भ (दत्त)
आर्यिकायेंतीन लाख अस्सी हजार आर्यिकायें
श्रावकतीन लाख श्रावक
श्राविकायेंपांच लाख श्राविकायें
प्रमुख आर्यिका वरूण श्री आर्यिका जी
किस कूट से मोक्षललित कूट से
मोक्ष किस आसन से प्राप्त कियाखड़गसान से
श्री 1008 चन्द्रप्रभु भगवान का समवशरण

श्री 1008 चन्द्रप्रभु भगवान का परिचय

इस मध्यलोक के पुष्कर द्वीप में पूर्व मेरू के पश्चिम की ओर विदेह क्षेत्र में सीतोदा नदी के उत्तर तट पर एक ‘सुगन्धि’ नाम का देश है। उस देश के मध्य में श्रीपुर नाम का नगर है। उसमें इन्द्र के समान कांति का धारक श्रीषेण राजा राज्य करता था। उसकी पत्नी धर्मपरायणा श्रीकांता नाम की रानी थी। दम्पत्ति पुत्र रहित थे अत: पुरोहित के उपदेश से पंच वर्ण के अमूल्य रत्नों से जिन प्रतिमाएँ बनवाईं, आठ प्रातिहार्य आदि से विभूषित इन प्रतिमाओं की विधिवत् प्रतिष्ठा करवाई, पुन: उनके गंधोदक से अपने आपको और रानी को पवित्र किया और आष्टान्हिकी महापूजा विधि की। कुछ दिन पश्चात् रानी ने उत्तम स्वप्नपूर्वक गर्भधारण किया पुन: नवमास के बाद पुत्र को जन्म दिया। बहुत विशेष उत्सव के साथ उसका नाम ‘श्रीवर्मा’ रखा गया। किसी समय ‘श्रीपद्म’ जिनराज से धर्मोपदेश को ग्रहण कर राजा श्रीषेण पुत्र को राज्य देकर दीक्षित हो गया। एक समय राजा श्रीवर्मा भी आषाढ़ मास की पूर्णिमा के दिन जिनपूजा महोत्सव करके अपने परिवारजनों के साथ महल की छत पर बैठा था कि आकस्मिक उल्कापात देखकर विरक्त होकर श्रीप्रभ जिनेन्द्र के समीप दीक्षा लेकर श्रीप्रभ पर्वत पर सन्यास मरण करके प्रथम स्वर्ग में श्रीप्रभ विमान में श्रीधर नाम का देव हो गया। धातकीखंड द्वीप की पूर्व दिशा में जो इष्वाकार पर्वत है उसके दक्षिण की ओर भरतक्षेत्र में एक पूर्व धातकीखंड द्वीप में सीता नदी के दाहिने तट पर एक मंगलावती नाम का देश है। इसके रत्नसंचय नगर में कनकप्रभ राजा राज्य करते थे, उनकी कनकमाला रानी थी। वह अच्युतेन्द्र वहाँ से आकर इन दोनों के पद्मनाभ नाम का पुण्यशाली पुत्र हुआ। किसी समय पद्मनाभ राजा श्रीधर मुनि के समीप धर्मोपदेश श्रवण कर दीक्षित हो गये, सोलहकारण भावनाओं का चिन्तवन कर ग्यारह अंग में पारंगत होकर सिंहनि:क्रीडित आदि कठिन-कठिन तप करने लगे। तीर्थंकर प्रकृति का बन्ध करके आयु के अन्त में विधिवत् मरण करके वैजयन्त विमान में अहमिन्द्र हो गये। इनके श्रीवर्मा, श्रीधरदेव, अजितसेन चक्रवर्ती, अच्युतेन्द्र, पद्मनाभ, अहमिन्द्र, चन्द्रप्रभ भगवान ये सात भव प्रसिद्ध हैं।

श्री 1008 चन्द्रप्रभु भगवान गर्भ और जन्म

अनन्तर जब इनकी छह माह की आयु बाकी रह गई, तब जम्बूद्वीप के भरत क्षेत्र में चन्द्रपुर नगर के महासेन राजा की लक्ष्मणा महादेवी के यहाँ रत्नों की वर्षा होने लगी। चैत्र कृष्ण पंचमी के दिन गर्भकल्याणक महोत्सव हुआ एवं पौष कृष्ण एकादशी के दिन भगवान चन्द्रप्रभ का जन्म हुआ।

श्री 1008 चन्द्रप्रभु भगवान तप

किसी समय दर्पण में अपना मुख देख रहे थे कि भोगों से विरक्त होकर देवों द्वारा लाई गई ‘विमला’ नाम की पालकी पर बैठकर सर्वर्तुक वन में गये। वहाँ पौष कृष्ण एकादशी के दिन हजार राजाओं के साथ दीक्षा ले ली। पारणा के दिन नलिन नामक नगर में सोमदत्त के यहाँ आहार हुआ था।

श्री 1008 चन्द्रप्रभु भगवान केवलज्ञान और मोक्ष

तीन माह का छद्मस्थ काल व्यतीत कर भगवान दीक्षावन में नागवृक्ष के नीचे फाल्गुन कृष्ण सप्तमी के दिन केवलज्ञान को प्राप्त हो गये। ये चन्द्रप्रभ भगवान समस्त आर्य देशों में विहार कर धर्म की प्रवृत्ति करते हुए सम्मेदशिखर पर पहुँचे। एक माह तक प्रतिमायोग से स्थित होकर फाल्गुन शुक्ला सप्तमी के दिन ज्येष्ठा नक्षत्र में सायंकाल के समय शुक्लध्यान के द्वारा सर्वकर्म को नष्ट कर सिद्धपद को प्राप्त हो गये।

Shree 1008 Chandraprabhu Bhagwan‘s Introduction

Next LordPushpadantnath Lord
Previous LordSuparshvanath Bhagwan
SignCrescent moon
FatherMahasen
MotherLaxman
Birth placeChandrapuri
Nirvana placeSameed Shikhar ji
Colorwhite
Previous IncarnationRaja Sri Srishen
LineageIkshvaku dynasty
Birth NakshatraAnuradha Nakshatra
Heightone hundred fifty bows
Ageone million years ago
Treeunder the snake tree
First DietMilk Kheer by King Somdutta in Nalinpur Nagar
kshetrapalaSri Somkanti, Sri Ravikanti, Sri Subhrakanti, Sri Hemkanti
Shree 1008 Chandraprabhu Bhagwan‘s Introduction

Panchkalyanak dates of Shri 1008 of Lord Chandraprabhu

ConceptionChaitra Krishna Panchami
BirthPaush Krishna Gyaras to
Initiation (Diksha)Paush Krishna Gyaras to
Attainment of Pure Knowledge (Kevalgyan)On Falgun Krishna Saptami
Liberation (Moksha)Falgun Shukla Saptami
Renunciation (Vairagya)By reflecting on non-polar emotions
Departure (Diksha Palaki)Palki named Vimla
Panchkalyanak dates of Shri 1008 of Lord Chandraprabhu

Assimilation/Samavsharan of Shri 1008 of Lord Chandraprabhu

YakshaVijay Dev
YakshiniVijay Manovega (other name Jwalamalini)
GanadharNinety-three Ganadhar
Chief GanadharShri Vaidarbha (Datt)
AryikasThree lakh eighty thousand Aryans
ShravaksThree lakh devotees
ShravikasFive lakh listeners
Chief AryankaVarun Shri Aaryika ji
Kut of Liberationfrom Lalit Koot
From which posture attain salvation?from Kharagsan
Remembrance of Shri 1008 of Lord Chandraprabhu

Introduction to Lord Chandraprabhu 1008

In the Pushkar Island of this Mid-World, to the west of Mount Meru in the Videha region, lies a land called Sugandhi on the northern bank of the Sita River. In the middle of that country is a city called Shripur. Ruled by King Shreshen, who radiated a glow akin to Indra, and his wife, the devout Queen Shrikanta. Despite being childless, they, upon the advice of their priest, constructed Jain statues with invaluable gems, consecrated them with rituals, purified themselves and the queen with sacred water, and performed the Mahapuja ceremony. After some time, the queen conceived a son through an auspicious dream and gave birth to him after nine months. He was named ‘Shrivarma’ amidst grand celebrations. At one time, King Shrivarma, witnessing a sudden lightning strike while celebrating the Jinapuja festival on the full moon day of Ashadh month with his family on the palace roof, renounced worldly life and attained initiation near Lord Shriprabh Jina, ascending to the first heaven in the Vaijayanta Vimana as the divine being named Shridhar. In the eastern direction of the Dhatakikhanda Island, in the Bharatkshetra, there is a country named Mangalavati on the right bank of the Sita River in the eastern Dhatakikhanda Island. King Kanakprabh ruled in its city of Ratnasanchay, and his queen was Kanakmala. They had a virtuous son named Padmanabh. At one time, Padmanabh received spiritual teachings from Muniraj Shridhar, became initiated, attained proficiency in the eleven qualities, engaged in rigorous austerities like playing with lions, and eventually attained liberation by renouncing worldly life in a conventional death and ascending to the Vaijayanta Vimana as Ahimindra. These seven renowned Tirthankars are Shrivarma, Shridhardev, Ajitsen Chakravarti, Achyutendr, Padmanabh, Ahimindra, and Chandraprabhu Bhagwan.

Birth and Womb of Lord Chandraprabhu 1008

When six months of his life remained, in the city of Chandrapur in the Bharat region of Jambudweep, there began a shower of gems at the house of King Mahasen and Queen Lakshmana Mahadevi. The auspicious ceremony of Garbhakalyan was held on the fifth day of the dark fortnight of Chaitra, and Lord Chandraprabhu was born on the eleventh day of the dark fortnight of Paush.

Austerity of Lord Chandraprabhu 1008

At one time, while gazing at his reflection in a mirror, he became detached from worldly pleasures and went to the Sarvartuk Forest seated on the palanquin named ‘Vimala’ brought by the gods. There, on the eleventh day of the dark fortnight of Paush, he took initiation with a thousand kings. On the day of breaking the fast, he dined at the residence of Somadatt in the city named Nalin.

Omniscience and Liberation of Lord Chandraprabhu 1008

After spending three months in the state of seclusion, Lord Chandraprabhu attained omniscience under the Nag tree on the seventh day of the dark fortnight of Phalgun. Traveling through all Arya regions, he reached the peak of Sammedashikhar, where he remained in meditation for a month. On the seventh day of the bright fortnight of Falgun, at twilight under the Jyeshtha Nakshatra, he destroyed all karma through meditation and attained the Siddha Pad.

You can explore the fascinating stories of all Jain 24 Tirthankaras on the Jain Sattva website. Delve into their lives and teachings to gain insights into Jain philosophy and spirituality.

Author: Admin
Jain Sattva writes about Jain culture. Explore teachings, rituals, and philosophy for a deeper understanding of this ancient faith.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *