Inspiring Jain Story: Sage Nandisen’s Compassionate Journey

Sage Nandisen's Compassionate Journey

प्रेरक जैन कहानी: ऋषि नंदीसेन की दयालु यात्रा

ऋषि नंदीसेन एक महान तपस्वी और शास्त्रों के अच्छे जानकार थे। उन्होंने पूरी निष्ठा से भिक्षुओं की सेवा करने का व्रत लिया। भिक्षुओं की सेवा के प्रति उनकी भक्ति स्वर्ग में भी लोकप्रिय थी। एक दिन, देवदूतों की एक सभा में इंद्र ने उनकी सेवाओं की खुले तौर पर सराहना की। देवदूतों में से एक को इस पर विश्वास नहीं हुआ और उसने ऋषि नंदीसेन का परीक्षण करने का फैसला किया।

देवदूत देवता एक क्षण में कोई भी रूप धारण कर सकते हैं और पलक झपकते ही कहीं भी पहुँच सकते हैं। यह देवता गांव के बाहरी इलाके में पहुंचे जहां ऋषि नंदीसेन को उनकी “दासता की प्रतिज्ञा” का परीक्षण करना था और उन्होंने दो भिक्षुओं का रूप धारण किया। एक बहुत बूढ़ा और रोगग्रस्त भिक्षु बन गया, जबकि दूसरा युवा और स्वस्थ भिक्षु बन गया।

यह वह दिन था जिस दिन ऋषि नंदीसेन को अपना उपवास तोड़ना था। जब वह गोचरी (भिक्षा) लेकर आया और व्रत तोड़ने ही वाला था, तो युवा भिक्षु उसके पास आया और बोला, “हे धन्य! एक बहुत बूढ़ा भिक्षु है जो दस्त, अत्यधिक प्यास और भूख से पीड़ित है। वह कमजोर है और आपकी मदद की जरूरत है।” ये शब्द सुनकर ऋषि नंदीसेन तुरंत उठे, अपने साथ शुद्ध जल लिया और उस स्थान पर गए जहां वृद्ध भिक्षु थे।

नंदीसेन को देखते ही वृद्ध भिक्षु क्रोधित हो उठे, “अरे दुष्ट, मैं यहां पड़ा-पड़ा पीड़ा सह रहा हूं और तुमने यह भी नहीं सोचा कि किसी को सहायता की जरूरत है या नहीं।”

ऋषि नंदीसेन इन शब्दों से आहत नहीं हुए। उनमें सहनशीलता, क्षमा और करुणा के गुण विकसित हो गए थे। उन्होंने शांति से उत्तर दिया, “हे भिक्षुओं में श्रेष्ठ, कृपया मेरी भूल को क्षमा करें। मैं आपके पीने के लिए शुद्ध जल लाया हूँ।”

उसने बूढ़े भिक्षु को पानी पीने में मदद की। उसने उसके कपड़े और उसके शरीर को साफ़ किया और उसे बैठने में मदद की। बूढ़ा भिक्षु एक बार फिर चिढ़ गया। उसने भौंहें सिकोड़ते हुए कहा, “अरे मूर्ख, क्या तुम्हें दिखाई नहीं देता कि मैं बैठने के लिए बहुत कमजोर हूं? तुम मेरे साथ क्या कर रहे हो?”

ऋषि नंदीसेन ने कहा, “मैं तुम्हारा समर्थन करूंगा।” वृद्ध भिक्षु को बिठाकर उन्होंने कहा, “हे पूज्य भिक्षु, यदि आप चाहें, तो मैं आपको उपाश्रय (वह स्थान जहाँ भिक्षु अस्थायी रूप से रहते हैं) में ले जाऊँगा जहाँ आप अधिक आरामदायक होंगे।” भिक्षु ने उत्तर दिया, “आप मुझसे क्यों पूछ रहे हैं? आप जैसा चाहें वैसा कर सकते हैं।”

ऋषि नंदीसेन ने साधु को अपने कंधों पर बिठाया और धीरे-धीरे आगे बढ़े। वह हर कदम को ध्यान से देखते हुए धीरे-धीरे चला। बूढ़ा भिक्षु (स्वर्गदूत देवता) उसका परीक्षण करने के लिए दृढ़ था, इसलिए उसने धीरे-धीरे अपना वजन बढ़ाया। कंधे पर भार बढ़ने से ऋषि नंदीसेन कांपने लगे और वे लगभग गिर पड़े। भिक्षु ने कहा, “अरे दुष्ट, तुम्हें क्या हो गया है? क्या तुम्हें चलना नहीं आता? तुम मेरे पूरे शरीर को हिला रहे हो।”

क्या बीमारों की सेवा करने का यह कोई तरीका है?” उनके शब्द बहुत कड़वे और कठोर थे, लेकिन ऋषि नंदीसेन बिल्कुल भी परेशान नहीं हुए। उन्होंने कहा, “मुझे क्षमा करें। मैं अधिक सावधान रहूँगा।”

बाद में, बूढ़े भिक्षु ने मलत्याग किया, और गंध असहनीय थी, लेकिन ऋषि बिल्कुल भी परेशान नहीं हुए। उसने इस पर ध्यान नहीं दिया और चलता रहा और इस बात का ध्यान रखा कि उसकी किसी भी गलती से साधु को ठेस न पहुंचे। रास्ते में उसने सोचा कि साधु को कैसे ठीक किया जाए।

वह साधु के साथ उपाश्रय में पहुंचे। इस पूरे समय के दौरान, बूढ़ा भिक्षु ऋषि नंदीसेन को देख रहा था और इतनी तकलीफ के बाद भी उसने ऋषि नंदीसेन की मदद करने की प्रकृति में कोई बदलाव नहीं देखा। तो बूढ़ा भिक्षु एक देवदूत में बदल गया और तुरंत ऋषि नंदीसेन को श्रद्धांजलि देते हुए कहा, “आप धन्य हैं। हे ऋषि, आप एक वास्तविक भिक्षु का उदाहरण हैं। आप भगवान इंद्र द्वारा वर्णित हैं। मैं आपसे बहुत प्रसन्न हूं और जो कुछ भी तुम चुनोगे वह तुम्हें प्रदान करूंगा।”

“हे भगवान, यह मानव जीवन बहुत ही मुश्किल से मिलता है। मानव अस्तित्व से अधिक मूल्यवान कुछ भी नहीं है। मैं संतुष्ट हूं। मुझे किसी चीज की लालसा नहीं है।” भगवान ने ऋषि के चरणों में सिर झुका दिया। भगवान ऋषि के गुणों की सराहना करते हुए अपने निवास पर लौट आए।

Inspiring Jain Story: Sage Nandisen’s Compassionate Journey

Sage Nandisen was a wise man who lived simply and knew a lot about religious texts. He promised to help other holy men as much as he could. People in heaven even knew about his commitment to helping monks. One day, the king of the gods, called Indra, praised him in front of other angels for his kindness. But one angel wasn’t sure if Sage Nandisen was as good as people said, so he decided to test him.

Angels can change their appearance and move very quickly. This angel went to a village where Sage Nandisen lived to test if he’d keep his promise to help monks. The angel changed into two monks—one old and sick, the other young and strong.

One day, when Sage Nandisen was going to eat after collecting food for the poor, the young monk told him, “There’s an old monk who’s very sick and needs your help.” Sage Nandisen rushed to help. But when he got there, the old monk got angry and said, “You didn’t even bother to see if I needed help!”

Sage Nandisen stayed calm. He said sorry and gave the old monk water to drink. He cleaned him up and helped him sit. But the old monk got mad again and said, “You’re not helping me properly!”

Sage Nandisen said, “I’ll carry you to a more comfortable place.” He lifted the old monk and walked slowly. The angel made himself heavier and heavier to test Sage Nandisen. But Sage Nandisen didn’t complain.

When the old monk had to go to the bathroom and smelled bad, Sage Nandisen didn’t mind. He kept helping. The angel watched all this and saw how kind Sage Nandisen was, even when things got tough. So the angel turned back into his true form and praised Sage Nandisen, saying he was a true monk.

Sage Nandisen didn’t want anything in return for his kindness. He was happy just to be alive. The angel respected him and left, saying nice things about him.

You can explore the fascinating stories of all Jain 24 TirthankarasJain Stories Exploring Jain Symbols on the Jain Sattva website. Delve into their lives and teachings to gain insights into Jain philosophy and spirituality.

Author: Admin
Jain Sattva writes about Jain culture. Explore teachings, rituals, and philosophy for a deeper understanding of this ancient faith.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *