Exploring the Sacred Symbols of Jain Ashtamangala

Exploring the Sacred Symbols of Jain Ashtamangala

Introduction of ashtamangala in jainism and Meaning

Jain Ashtamangala, or the Eight Auspicious Symbols of Jainism, hold deep significance in Jain culture and spirituality. These symbols, depicted in the Kalpasutra, are revered and utilized in various religious rituals and ceremonies. Let’s delve into the meaning and history of each symbol:

ashtamangala jain

1. Swastika

The Swastika represents the four destinies: human beings, heavenly beings, hellish beings, and other living creatures. Derived from “SU” meaning benefic and “US” meaning existence, it symbolizes glory, prosperity, progress, and success. In Jainism, it is customary to draw the swastika at the beginning of all religious ceremonies.

2. Shrivatsa

Shrivatsa refers to a beautiful mark manifested from the heart of the Jina, appearing as a raised bunch of soft hair on the chest. It symbolizes compassionate universal eternal love for all living beings.

3. Nandyavart

Nandyavart is a large swastika with nine corners, symbolizing nine types of material, mental, physical, and spiritual wealth and treasures in mythology. It represents a visual icon for higher meditative attainment.

4. Vardhamanak

Vardhamanak, also known as “sharav,” resembles a shallow earthen dish used for lamps. This symbol signifies the increase of wealth, fame, and merit through the grace of the Lord Jina.

5. Bhadrasana (Sinhasana)

Bhadrasana, meaning “throne,” is considered auspicious as it is sanctified by the feet of the blessed Lord Jina. It is a seat of honor for evolved souls and a symbol of spiritual authority.

6. Kalash

The Kalash is a symbol of auspiciousness, typically a holy pitcher filled with pure water symbolizing wisdom and abundance. It plays a prominent role in every auspicious ceremony, inviting grace and happiness.

7. Minyugal

Minyugal is represented by a pair of fish, symbolizing the banners of Cupid coming to worship the Jina after Cupid’s defeat. The fish couple also represents the flow of divine life in the cosmic ocean.

8. Darpan

Darpan, meaning “mirror,” symbolizes the reflection of one’s true self due to its clarity. It represents self-awareness and introspection.

These Jain symbols are an integral part of Jain culture, representing various aspects of prosperity, beauty, wealth, grace, and self-reflection. Jain followers are required to draw these symbols using pure unbroken rice grains before the icon of the Tirthankar as per scriptures. Some have simplified this custom to drawing just a swastika along with three heaps of rice grains representing knowledge, vision, and character.

In summary, the Jain Ashtamangala symbols are not just visual representations but carry profound spiritual meanings, guiding followers towards enlightenment and compassion.

जैन अष्टमंगल के पवित्र प्रतीकों का अन्वेषण

जैन अष्टमंगल, यानी जैन धर्म के आठ शुभ चिन्ह, जैन संस्कृति और आध्यात्मिकता में गहरा महत्व रखते हैं। ये प्रतीक, कल्पसूत्र में चित्रित हैं, और विभिन्न धार्मिक रीति-रिवाज और कार्यक्रमों में प्रयोग किए जाते हैं। चलिए, हर चिन्ह का अर्थ और इतिहास जानते हैं।

1. स्वस्तिक

स्वस्तिक चार भविष्यों को प्रतिनिधित करता है: मानव, स्वर्गीय, नरकीय, और अन्य जीवों। “सु” और “उस” से लिया गया, इसका अर्थ है भलाई और अस्तित्व, जो महिमा, समृद्धि, प्रगति, और सफलता का प्रतीक है। जैन धर्म में, इसको सभी धार्मिक कार्यक्रमों की शुरुआत में बनाना प्रसिद्ध है।

2. श्रीवत्स

श्रीवत्स एक सुंदर चिह्न है जो जिन के हृदय से प्रकट होता है, छाती पर नर्म बालों के एक समूह के रूप में। यह सभी जीवों के प्रति कृपाशील सार्वभौमिक नित्य प्रेम का प्रतीक है।

3. नंद्यावर्त

नंद्यावर्त एक बड़ा स्वस्तिक है जिसमें नौ कोने होते हैं, जो ध्यान की उच्च साधना का चित्र है। यह नौ प्रकार की भौतिक, मानसिक, शारीरिक, और आध्यात्मिक धन और धनाद्याः की प्रतीक है।

4. वर्धमानक

वर्धमानक, जिसे “शरव” भी कहा जाता है, एक हल्का मिट्टी का कटोरा है जिसे प्रकाशित किया जाता है। यह प्रतीक धन, प्रसिद्धि, और पुण्य की वृद्धि को दर्शाता है जो भगवान जिन की कृपा से होती है।

5. भद्रासन (सिंहासन)

भद्रासन, अर्थात “सिंहासन”, भगवान जिन के पादों से पवित्र माना जाता है। यह परिपक्व आत्माओं के लिए मानवीय बैठक है और आध्यात्मिक प्राधिकार का प्रतीक है।

6. कलश

कलश शुभता का प्रतीक है, साधारणत: एक पवित्र घड़ा होता है जिसमें पवित्र जल भरा जाता है, जो ज्ञान और अधिकता की संकेत है। यह हर शुभ कार्यक्रम में प्रमुख भूमिका निभाता है।

7. मीन युगल

मीन युगल को एक जोड़ी मछलियों से प्रतिष्ठित किया जाता है, जो जिन की पूजा करने आती हैं। मीन युगल दिव्य जीवन के धार को भी दर्शाता है।

8. दर्पण

दर्पण, अर्थात “आईना”, अपनी सच्ची आत्मा को प्रकट करता है। यह आत्म-जागरूकता और आंतरदृष्टि का प्रतीक है।

ये प्रतीक जैन संस्कृति का अभिन्न हिस्सा हैं, जो समृद्धि, सौंदर्य, धन, कृपा, और स्व-परामर्श के विभिन्न पहलुओं का प्रतिनिधित्व करते हैं। जैन अनुयायियों को शास्त्रों के अनुसार इन प्रतीकों को शुद्ध अविच्छेदित चावल के अंगूठे बनाने के लिए आवश्यकता है, जो तीर्थंकर की मूर्ति के सामने होता है। कुछ लोगों ने इस रीति-रिवाज को सरलीकृत किया है और केवल स्वस्तिका को बनाने के साथ-साथ ज्ञान, दृष्टि, और चरित्र का प्रतिनिधित्व करने के लिए तीन धान के ढेर बनाने को कहा है।

सारांश में, जैन अष्टमंगल प्रतीकों का अर्थ न केवल दृश्य प्रतिनिधित्व है, बल्कि ये गहरे आध्यात्मिक अर्थ लेकर अनुयायियों को प्रेरित करते हैं, उन्हें बोध और दया की ओर मार्गदर्शन करते हैं।

Author: Admin
Jain Sattva writes about Jain culture. Explore teachings, rituals, and philosophy for a deeper understanding of this ancient faith.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *